Trending News
    लेख

    परीक्षाफल पर विद्यार्थियों के लिये प्रेरक वचन

    परीक्षाफल पर विद्यार्थियों के लिये प्रेरक वचन
    30 July

    उत्तराखंड बोर्ड का परीक्षाफल आ चुका है।

    सभी छात्रों गुरूजनों और अभिभावकों को एक अध्यापक की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं।

    जिन छात्रों के मनोनुकूल अंक आये हैं अधिक अंक आयें हैं उन्हें भविष्य की मंगलमयी शुभकामनाएं।

    किंतु जिनके अच्छे अंक नहीं आ पाये हैं या जिन्हें योग्यतानुकूल अंक नहीं मिले हैं उनके लिये दो बातें।

    जिनके अच्छे अंक नहीं आयें- स्वयं पर विश्वास करें, और सच स्वीकार करें, समझें कि आप भी कुछ हैं भगवान ने आप को भी वह सब प्रदान किया है जो एक टॉपर के पास है, जीवन में 10वी 12वीं ही परीक्षा नहीं है हर कदम पर परीक्षा है बस धैर्य बनायें रखें और सही समय पर भगवान की दी हुई चीजों का प्रयोग करें। खेलते समय खूब मन लगकर खेलें, इसी प्रकार जब कक्षा में बैठें हो पूरी तल्लीनता से अध्ययन करें नहीं समझ आता शिक्षक से प्रश्न करें सहनशीलता रखें। तब तक प्रश्न करें जब तक विषय समझ नहीं आ जाता, प्रश्न करने से ना हिचकें। यह बात ध्यान रखें कोई भी जन्मजात विद्वान नहीं होता विरले ही होते हैं, इसलिये यह भ्रम त्यागें कि फलाँ छात्र तो होशियार मुझे कुछ नहीं आता। हाँ आपको नहीं आता, नहीं आता इसीलिये तो आप विद्यालय में है, इसलिये सीखने से मत घबराइये।

    जो छात्र स्वयं को पहले ही सिद्ध समझ लेते हैं उनका विकास अवरुद्ध होने की पूरी सम्भावना बन जाती है और जो छात्र स्वयं को यह समझने लगता है कि मुझे तो कुछ नहीं आता भगवान ने मुझे बुद्धि नहीं दी है फलाँ विद्यार्थी जैसा मैं नहीं हूँ वो तो बहुत होशियार है वह हीनभावना का शिकार हो जाता है, और इस भ्रम में समय गंवाकर अज्ञान के गहरे दलदल में फँस जाता है। जिससे कभी नहीं निकल पाता और अपने जीवन की दिशा नकारात्मक कर देता है। अत: आशावादी रहें अच्छे लोगों से जुड़े रहें उत्साही बनें।

    जिन छात्रों के योग्यतानुसार अंक नहीं आये हैं- आप निराश न हों अंक ही योग्यता के पैमाने नहीं हैं, केवल उत्साहबढ़ाने के मौके हैं। हो सकता है आपने यह मौका नहीं पा पायें हों, आपके हाथ से अपनों को खुशियाँ देने का पल निकल गया हो। लेकिन अभी बहुत मौके आयेंगे चिंता न करें और आपके अपने भी आपका मूल्यांकन कभी अंको से नहीं करते। आप स्वयं ही महसूस कीजिये जो लोग आपकी नजरों में अच्छे हैं या जिन्होनें इस समाज में अपना एक सफल स्थान बनाया है क्या वे गले में अपना रिजल्ट लटकाकर घूम रहे हैं। नहीं ना। क्या आप जानते हैं उनके बोर्ड परीक्षा में कितने अंक थे? नहीं वे अब केवल अपनी योग्यता से जाने जाते हैं।

    इसीलिये स्मरण रहे ये प्राप्तांक वास्तविकता नहीं है आंशिक है वास्तविता वो है जो आप उन सब की नजरों में हो जिनके सामने आप अपना करतब करते हो। चाहे व्यवहार हो या कोई बौद्धिक कार्य। या दायित्व निर्वाह

    । और अगर आप इन सब में अच्छे हो तो अच्छे बने रहो निराशा में इस अच्छाई को मत खोओ आपकी अच्छाई आपको जीवन में बहुत कुछ दिलाएगी ये मेरा पूर्ण विश्वास है।

    अत: पुन: आप सभी परीक्षार्थियों, गुरूजनों एवं अभिभावकों को भावी जीवन की अनंत मंगलमयी शुभकामनाएं।

    ✍✍✍✍✍✍✍

    कुलदीप गौड़ प्रवक्ता (संस्कृत)

    राजकीय इण्टर कॉलेज कमान्दा,

    नैनीडाण्डा पौड़ी गढ़वाल



    Comments

    You May Also Like

    ×

    कृपया हिंदी भाषा में खोजें!