Trending News
    समाचार

    सृजन के अंकुर काव्य-गोष्ठी का हुआ आयोजन

    सृजन के अंकुर काव्य-गोष्ठी का हुआ आयोजन
    8 July

    हरिद्वार। मातृ दिवस पर अमर उजाला की अपराजिता मुहिम के तहत काव्यमयी संस्था “सृजन के अंकुर” द्वारा आयोजित गोष्ठी में वक्ताओं ने नारी के सशक्तिकरण और मां की महिमा का बखान किया। इस दौरान मां को भगवान का रूप बताया गया। वहीं बेटियों को शिक्षित और प्रोत्साहित कर आगे बढाने की बात कही। मां सरस्वती की चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ वरिष्ठ साहित्यकार साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त डॉ. निरंजन मिश्र और डा. हरिनारायण जोशी ने किया।

    कवयित्री पूनम रजा द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वंदना के साथ गोष्ठी को औपचारिक शुरूआत मिली। इस दौरान वरिष्ठ साहित्यकार डा. निरंजन मिश्र ने कहा कि नारी सदैव से ही पूज्य है। कोई भी युग रहा हो, नारी को हमेशा पूजा गया। शक्ति स्वरूपा नारी ने समाज के उत्थान के लिए अनेक प्रयास किए। डा. हरिनारायण जोशी ने कहा कि बेटियों को खुद ही इतना सशक्त और सबल होना चाहिए कि कोई भी बुराई उन तक पहुंच न सके। उन्होंने कई उदाहरण देकर बेटियों के सशक्तिकरण की बात कही। दावा किया कि आज बेटियों ने हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का लोहा मनावाया है। प्रेरक व्यक्तित्व से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। वरिष्ठ पत्रकार धमेंद्र चौधरी और बालकृष्ण शास्त्री ने अपराजिता मुहिम की सराहना करते हुए कहा कि बेटियों को मार्गदर्शन की जरूरत है और इस तरह के कार्यक्रम हमेशा प्ररेणादायी होते हैं। नवोदित कवित्री ईशा ने निर्भया सहित नारी उत्पीडऩ की कई घटनाओं का जिक्र करते हुए बेटियों की पीड़ा को बहुत मार्मिक ढंग से उकेरा। उनका कहना था कि खुद ही इतनी सबल कि कोई कोई हेल्पलाइन न हो। सवाल उठाया कि आज तक बेटों को बढ़ाने पढ़ाने और उनके लिए हेल्पलाइन बनाने की जरूरत क्यों महसूस नहीं हुई। रामचंद मंमगाई ने कहा कि तू मन्नत माता पिता की, मैं संतान अनचाही हूं के रूप में बेटियो की पीड़ा को प्रस्तुत किया। सतेंद्र शर्मा तरंग की मां को समर्पित कविता भी खूब सराही गई। धनेश्वर द्विवेदी और रामचंद्र मंमगाई के संयुक्त संचालन में हुए कार्यक्रम में शिवानी, हिमानी, धनेंद्र उनियाल, गौरव जोशी, अंकित नैनवाल, कुलदीप गौड़ "जिज्ञासु", आशीष भट्ट, उमेश जोशी, नित्यानंद ममगई, गौरव उनियाल, पंकल जोशी, ऋतिक थपलियाल, तुषार शर्मा, पूनम रजा, अंकित ममगई, सौरभ हिंदवाण, मुजफ्फरनगर से आए सोनू आदि ने भी अपनी प्रस्तुति दी। पंकज अरोड़ा ने आंगुतकों का आभार जताया। सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र भी दिए गए। इस अवसर पर चिततरंगिणी त्रैमासिक पत्रिका का विमोचन भी किया गया।



    Comments

    You May Also Like

    ×

    कृपया हिंदी भाषा में खोजें!